Arz Kiya Hai

1.) सीखना सीखों से मुश्किल है जनाब,हर सीख तकलीफ़ भी देती है

तकलीफ़ सेहने की फितरत मिलती नहीं अब,मर्ज दबाने की नियत रेहती है

 

 

2.) भूख में रोटी न मिले,पर बुलन्दी पर पहुँचने  की चाह रहे

उसूल अगर हो यह जीने का तो खुद मंज़िल पर खुदा दिखे

 

 

 

3.) अनुभवी बहुत हैं ज़माने मेंसलाह लेना ज़रूरी है

पर सीख लिया है इतना के कौनसी ज़रूरी है 

 

 

4.) जंग ए आज़ादी एक जुनून था,पर आज़ादी वहम सी लगती है

आरकश्ण हो या चुनावी समर सच से दूरी लगती है

 

 

5.) हार से हारना आसान है,हासिल तो फतेह की जाती है

जो मजबूरी का मातम करते हैंउन्हें भीक भी कहाँ मिल पाती है

– By Abhinav Dwivedi